Friday, 3 September 2021

Teacher's Day 2021

Teacher's Day 5 September 2021


कहते हैं शिक्षक वह जरिया होता है जो अपने शिष्य को उसकी मंजिल की ओर पहुंचाता है जो अपने शिष्य के भविष्य की  नींव रखता है और उसके उज्जवल भविष्य की कामना करता है भारत में शिक्षक दिवस को 5 सितंबर के दिन बनाया जाता है

Note - 

शिक्षक दिवस पूरी दुनिया में मनाया जाता है लेकिन हर देश अपने यहां शिक्षक दिवस को अलग-अलग महीने में मनाते हैं

भारत में शिक्षक दिवस क्यों बनाते हैं

स्वतंत्र भारत में भारत के पहले उपराष्ट्रपति वह दूसरे राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन की याद में शिक्षक दिवस मनाया जाता है सर पल्ली राधाकृष्णन का जन्म 5 सितंबर 1988 को हुआ था वह राष्ट्रपति बनने से पहले वह शिक्षक से जब से उनका जन्म हुआ था उनको किताबों को पढ़ने में बहुत ज्यादा लगे रहते थे उनको किताबों से बहुत ज्यादा प्यार था

सर पल्ली राधा कृष्ण को स्वामी विवेकानंद से बहुत ज्यादा प्रभावित थे और उनके विचारों को वह हमेशा पढ़ते थे राधा कृष्ण का निधन 17 अप्रैल 1975 को चेन्नई में हुआ था

सर पल्ली राधाकृष्णन ने अपना पूरा जीवन दूसरों को मार्गदर्शन दिखाने में ही खत्म कर दिया उनका कहना था कि अगर आज हम अपने बच्चों को सही से पढ़ने और लिखने के लिए प्रेरित नहीं करेंगे तो उनका भविष्य वह हमारे देश के भविष्य बहुत ज्यादा खराब होगा




सर पल्ली राधाकृष्णन के विचार

उनका मानना था कि अगर हम अपने देश की शिक्षा व्यवस्था में सुधार कर लेते हैं तो हमको आने वाली पीढ़ी से बहुत ज्यादा खुशहाल जीवन देखने को मिलेगा और वह मानते थे जब आदमी पढ़ लिख लेता है तो वह अपने लिए नए-नए रोजगार में नौकरी के लिए उपयोग माना जाता है इसलिए उनका कहना था हमारे देश की गरीबी भूखमरी और अन्य समस्याएं जब तक खत्म नहीं होंगी जब तक हमारे देश में पढ़े लिखे लोगों की संख्या बहुत ज्यादा ना हो इसलिए उन्होंने अपना पूरा जीवन दूसरों को शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रेरित कर दिया

विश्व शिक्षक दिवस कब मनाया जाता है

विश्व शिक्षक दिवस को 5 अक्टूबर के दिन पूरी दुनिया में मनाया जाता है

Monday, 14 June 2021

HANNAH KABEL WIKI BIO AGE,HEIGHT,INSTAGRAM,TIKTOK

HANNAH KABEL WIKI BIO AGE,HEIGHT,INSTAGRAM,TIKTOK



Hello friends today we will give you complete biography of HANNAH KABEL and his life since HANNAH KABEL was born and till date we will discuss many things about HANNAH KABEL.

According to our research HANNAH KABEL was born on 01 Jan 2002 HANNAH KABEL age is 19 years as on 2021 HANNAH KABEL real name is HANNAH KABEL


Hannah Kabel



HANNAH KABEL also did a job before becoming famous, enjoyed his job and gave his best but due to being too famous, HANNAH KABEL left his job and became a full time social media influencer

HANNAH KABEL birthday age birth place 

We tried a lot but on the internet we have not found any information about the birth place of HANNAH KABEL.
HANNAH KABEL was born on 01 Jan 2002
HANNAH KABEL's age is 19 years as of 2021.

HANNAH KABEL height weight 

According to what is seen in the photo and video of HANNAH KABEL, the height of HANNAH KABEL is 5fit 2inch, the weight of HANNAH KABEL is 50 kg (approximate)

Hannah Kabel


HANNAH KABEL networth , income 

According to the sources which have been made public by HANNAH KABEL on the internet, the income of HANNAH KABEL is more than $100k.

HANNAH KABEL Boyfriend, Affair

HANNAH KABEL has not yet given any information about her boyfriend on any of her social media handles and will update here whenever we get any information about HANNAH KABEL boyfriend.

Hannah Kabel



HANNAH KABEL Family 

Any information about HANNAH KABEL's family is not available on internet it will be updated after getting information.

More Facts About HANNAH KABEL

HANNAH KABEL Education
HANNAH KABEL Address
HANNAH KABEL Profession
HANNAH KABEL Instagram
HANNAH KABEL TikTok
HANNAH KABEL Twitter
HANNAH KABEL Interest
HANNAH KABEL YouTube
HANNAH KABEL Frist Video
HANNAH KABEL School / College
HANNAH KABEL Figer
HANNAH KABEL Facebook
HANNAH KABEL Mobile Nomber

Thursday, 10 June 2021

Battlegrounds Mobile India

Battlegrounds Mobile India

 Battlegrounds Mobile India

 Battlegrounds Mobile India  गेम भारत में जून में इस दिन होगा लॉन्च, इन मोबाइल्स पर करेगा सपोर्ट


भारत में PUBG की ही तरह माने जा रहे Battlegrounds Mobile India गेम को जून के महीने में ही लॉन्च कर दिया जाएगा। आप भी जान लें

 कि  Battlegrounds Mobile India लॉन्च डेट क्या है और यह किस तरह के स्मार्टफोन्स पर चलेगा?

हाइलाइट्स:


  • जून के तीसरे हफ्ते में लॉन्च की संभावना
  • भारत में  Battlegrounds Mobile India लॉन्च का बेसब्री से इंतजार

  • कृपया भारत में पबजी प्राप्त करने के लिए कुछ मिनटों में पुन: प्रयास करें Battlegrounds Mobile India, जो कि सबसे लोकप्रिय अवतार PUBG India है,

  •  18 जून को भारतीय रॉयल बैटल गेम प्रेमियों का अधिकतम लाभ उठाने का यह एक शानदार तरीका है। भारत में PUBG Mobile के मुताबिक, गेमर्स हमेशा दूसरे पेरिफेरल परफॉर्म करने में सक्षम होंगे।

  •  Battlegrounds Mobile India को Google Play Store पर  देखना न भूलें।

कुछ महत्वपूर्ण बातें जानने के लिए

भारत में PUBG मोबाइल इन्फ्लुएंसर सागर ठाकुर ने एक बाइनरी कोड स्किन में कहा कि  Battlegrounds Mobile India को भारत में जून में लॉन्च किया जा सकता है।

 इससे पहले भी कई एडवाइजरों ने भारतीय io PUBG अवतार के लॉन्च को लेकर कई बातें कही थीं।  Battlegrounds Mobile India के बारे में जो महत्वपूर्ण बात सामने आती है, वह यह है कि खिलाड़ियों को लेवल 3 बैकपैक मिलेगा, जो कि सबसे बड़ा बैकपैक है जो खिलाड़ियों को खेल में किसी भी समय मिल सकता है।

 इसके साथ ही यह भी जानकारी है कि बैटलग्राउंड मोबाइल इंडिया स्मार्टफोन में 2 जीबी रैम भी चला सकता है। वहीं, गेम उसी मोबाइल इवेंट पर चल सकेगा जो एंड्रॉइड 5.1.1 ”या बाद के ऑपरेटिंग सिस्टम को सपोर्ट करता है।

क्या आपको लगता है कि दरवाजा अभी भी खुला है? तो आप मुफ्त में इंटरनेट का उपयोग कर सकते हैं।

Wednesday, 9 June 2021

Jitin Prasad Joined BJP, Jitin Prasad Left Congress

Jitin Prasada is joining BJP

कांग्रेस में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है, आज एक बार फिर यह बात सामने आई है. jitin prasad कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए। यूपी चुनाव से पहले कांग्रेस के लिए यह एक झटका है, साथ ही राहुल गांधी के लिए बेहद परेशान करने वाली खबर है। सालों से राहुल के करीबी माने जाने वाले चार नेताओं में से अब दो ने पार्टी छोड़ दी है. 
Jitin Prasada is joining BJP
Jitin Prasada is joining BJP

Jitin Prasad Left Congress 

जब राहुल गांधी कांग्रेस अध्यक्ष बने तो ये चारों नेता उनके सबसे करीब थे और उनकी काफी चर्चा भी हुई थी। 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान jitin prasad ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल होने की चर्चा की थी, लेकिन उन्होंने उस समय पार्टी नहीं छोड़ी। . हालांकि यह चर्चा इतनी बढ़ गई थी कि कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला को सामने आकर स्पष्ट करना पड़ा कि जितिन पार्टी नहीं छोड़ रहे हैं. 

हालांकि उसके बाद भी jitin prasad सामने नहीं आए, लेकिन अब दो साल बाद आखिरकार उन्होंने कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल होने का कदम उठाया है. राहुल गांधी के करीबी माने जाने वाले jitin prasad कांग्रेस के दिग्गज नेता jitin prasad प्रसाद के बेटे हैं. प्रियंका गांधी की कमान उत्तर प्रदेश कांग्रेस के हाथ में है


बढ़ेगी राहुल गाँधी  की चुनौती



वर्तमान समय कांग्रेस के लिए चुनौतियों से भरा है। ऐसे समय में जब पार्टी अपने लिए अगला अध्यक्ष तय नहीं कर पा रही है, एक के बाद एक युवा नेता विपक्षी खेमे में जा रहे हैं, जिससे संकट कई गुना बढ़ रहा है। 

राजस्थान में जीत के बाद भी सचिन पायलट हाशिए पर थे, वहीं कमलनाथ सरकार बनने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया भी पार्टी के भीतर प्रतिष्ठा हासिल करने का इंतजार करते रहे। नतीजा यह हुआ कि ज्योतिरादित्य ने कमल ले लिया और मध्य प्रदेश में कांग्रेस की हार हुई। 

कांग्रेस ने 2014 में धौरहरा सीट से एक बार फिर jitin prasad को मैदान में उतारा, लेकिन जीत दर्ज नहीं कर पाई। 2017 में तिलहर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा, लेकिन उस समय सपा का समर्थन होने के बावजूद यह चुनाव नहीं जीत पाए। इसके बाद 2019 में फिर से धौरहरा से लोकसभा चुनाव लड़ा, लेकिन हार गए। इसके बाद प्रियंका गांधी ने jitin prasad को तवज्जो नहीं दी, जिससे वे नाराज हो गए।

Political Career of Jitin Prasad 


पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के राजनीतिक सलाहकार jitin prasad प्रसाद के बेटे jitin prasad का राजनीतिक सफर करीब 20 साल पुराना है. jitin prasad ने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत वर्ष 2001 में की थी। इस दौरान वे युवा कांग्रेस में सचिव बने।
Jitin Prasada is joining BJP
Jitin Prasada is joining BJP

इसके बाद 2004 के लोकसभा चुनाव में शाहजहांपुर से अपनी गृह लोकसभा सीट जीतकर संसद पहुंचे. 2008 में, अखिलेश दास की जगह, कांग्रेस आलाकमान ने jitin prasad को पहली बार केंद्रीय राज्य इस्पात मंत्री के रूप में नियुक्त किया। 

इसके बाद 2009 में jitin prasad ने धौरहरा सीट से लोकसभा चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। वह 2009-11 तक सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री थे, जिसके बाद उन्होंने 2011-12 तक पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय और 2012-14 तक मानव संसाधन और विकास मंत्रालय का कार्यभार संभाला, लेकिन तब से वह नहीं कर सके। फिर से चुनाव जीतें।

जितिन को विरासत में मिली राजनीति jitin prasad का जन्म 29 नवंबर 1973 को शाहजहांपुर, यूपी में हुआ था। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा दून स्कूल देहरादून से की। फिर वे दिल्ली चले गए और श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से बीकॉम ऑनर्स किया। 

इसके बाद उन्होंने दिल्ली से MBA  किया। फरवरी 2010 में jitin prasad ने पूर्व पत्रकार नेहा सेठ से शादी की। jitin prasad के दादा ज्योति प्रसाद कांग्रेस के नेता थे और उनकी दादी पामेला प्रसाद कपूरथला के शाही सिख परिवार से थीं। 

जितिन  प्रसाद इंदिरा गांधी से लेकर राजीव गांधी और पीवी नरसिम्हा राव तक भारत के प्रधानमंत्री के राजनीतिक सलाहकार रह चुके हैं। jitin prasad प्रसाद यूपी कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं।

पूर्व केंद्रीय मंत्री jitin prasad कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने jitin prasad को बीजेपी की सदस्यता दी. राहुल गांधी के करीबी माने जाने वाले jitin prasad कांग्रेस के दिग्गज नेता jitin prasad प्रसाद के बेटे हैं। 

उत्तर प्रदेश कांग्रेस की कमान प्रियंका गांधी के हाथ में आने के बाद jitin prasad प्रदेश की राजनीति में साइड लाइन चला रहे थे, जिसके चलते अब उन्होंने 2022 के चुनाव से ठीक पहले पार्टी को अलविदा कह दिया है. इसे यूपी में कांग्रेस के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है.

Congress  को बड़ा झटका

ज्योतिरादित्य सिंधिया, jitin prasad, सचिन पायलट और मिलिंद देवड़ा- ये चार नाम हैं जो सालों तक राहुल गांधी के करीब रहे। जब भी राहुल गांधी की युवा टीम की चर्चा होती थी तो उसका जिक्र जरूर होता था। उन्हें संसद के अंदर और बाहर कई मौकों पर एक साथ देखा गया। 

अब इस चौकड़ी में राहुल गांधी के पास दो ही बचे हैं. बड़ा सवाल यह है कि ये दोनों भी कब तक राहुल का साथ दे पाएंगे क्योंकि विशाल भाजपा के सामने पस्त कांग्रेस को फिर से जिंदा करने की उम्मीद बार-बार उड़ाई जा रही है और कांग्रेस के नए अध्यक्ष का चुनाव हो रहा है. किसी न किसी बहाने टाल दिया। दिया जा रहा है।
देवड़ा उग्र दिख रहे हैं

राहुल गांधी के करीबी दोस्तों के बीच जो दूसरा नाम बचा है, वह है मिलिंद देवड़ा का। देवड़ा के पिछले कुछ बयानों पर नजर डालें तो इस संभावना से इंकार करना मुश्किल होगा कि वह राहुल को अपना अंगूठा भी दिखा सकते हैं। भारत-चीन मुद्दे पर राहुल गांधी के रुख पर सवाल हो या फिर शिवसेना-एनसीपी के साथ महाराष्ट्र में गठबंधन सरकार को लेकर दिया गया बयान, देवड़ा अंदर से गुस्से में नजर आ रहे हैं.

चौकड़ी में बचे दो दोस्त, वो भी हैं नाराज़

पिछले साल राजस्थान में क्या हुआ, सभी ने देखा। यह झगड़ा अभी खत्म नहीं हुआ है। पिछले साल लगी आंतरिक आग का धुंआ अभी तक देखा नहीं जा सका है। 

राजस्थान में अपने ही मुख्यमंत्री के खिलाफ बगावत करने वाले सचिन पायलट काफी मेहनत के बाद भी पार्टी के साथ बने रहे, लेकिन उनकी नाराजगी कम नहीं हुई है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच क्या चल रहा है, यह बात शायद ही किसी से छिपी हो। 

कांग्रेस आलाकमान की ओर से लाख कोशिशों के बाद भी मामला पूरी तरह से सुलझ नहीं पाया है और सचिन पायलट अलग-अलग तरीकों से बार-बार अपनी नाराजगी जाहिर करते रहे हैं.

Friday, 4 June 2021

Amrit Pradhan Biography

Amrit Pradhan Biography

Amrit Pradhan Wiki Biography Age Famliy

आज में आपको जिसकी बारे में बताने जा रहे है उनका नाम  Amrit Pradhan है और वह ओडिशा राज्य से आते है 

Who is Amrit Pradhan Odisha ?

 Amrit Pradhan एक 24 साल के सॉफ्टवेयर इंजीनियर है और वह ओडिशा राज्य में रहते है और  Amrit Pradhan इस समय कोरोना से जंग लड़ रहे है और इस टाइम वह वेंटिलेटर की सपोर्ट पर और कोरोना के साथ साथ उनको और कई तरह इन्फेक्शन है जैसे की Pneumonia, Septicemia and fungal इन्फेक्शन भी है डॉक्टर ने उनको ECMO (Extracorporeal membrane Oxygenation) सपोर्ट पर रख रखा है डॉक्टर ने कहा है की ECMO और वेंटिलेटर की सपोर्ट उनकी फेफड़ो को ख़राब होने से रोकने के लिए उनको इनकी सपोर्ट पर रखा है  Amrit Pradhan की बहन के सोशल मीडिया पर उनके लिए कुछ डोनेशंस की अपील की है और सब लोगो की भावुक होकर अपील की है 
 Amrit Pradhan को अभी ही चेन्नई के Apollo Hospital में भर्ती कराया गया है उनके आगे का ट्रीटमेंट चेन्नई के इसी Hospital हो होना है  Amrit Pradhan को भुबनेश्वर से चेन्नई लाया गया है उनके लिए ग्रीन कॉरिडोर को पुलिस द्वारा बिना किसी परेशानी के  Amrit Pradhan को एयरपोर्ट पर लाया गया है फिर  Amrit Pradhan को भुबनेश्वर से ऐरोप्लेन के द्वारा चेन्नई ले जाया गया है 

Amrit Pradhan Airlifted To Chennai 

 Amrit Pradhan जिन्होंने पिछले महीने कोविड के लिए सकारात्मक प्रयोग  के बाद फेफड़ों में निमोनिया और सेप्टिसीमिया विकसित किया था, जब उनके परिवार और दोस्तों ने उनके इलाज के लिए ₹ 60 लाख जुटाए।  Amrit Pradhan   फेफड़े  के प्रत्यारोपण की जरूरत है, जिस पर उन्हें 1.2 करोड़ रुपये खर्च करने होंगे।

 Amrit Pradhan बहनोई चिदानंद तारी ने कहा, "अपोलो अस्पताल की टीम एक एक्स्ट्राकोर्पोरियल मेम्ब्रेन ऑक्सीजनेशन (ECMO ) मशीन लेकर आई थी, जो उसे फेफड़े के प्रत्यारोपण तक जीवित रखेगी।" एक ECMO अपने रक्त को हृदय-फेफड़े की मशीन में पंप करता है जो कार्बन डाइऑक्साइड को हटाता है और हृदय और फेफड़ों को दरकिनार करते हुए ऑक्सीजन से भरे रक्त को शरीर के ऊतकों में वापस भेजता है। फेफड़े के प्रत्यारोपण की जरूरत है, जिस पर  Amrit Pradhan 1.2 करोड़ रुपये खर्च करने होंगे।

“स्वास्थ्य बीमा वाले हमारे जैसे मध्यम वर्गीय परिवार के लिए, हमारे पास अधिकतम कवर ₹10 लाख है। जब हमने सोशल मीडिया के साथ धन उगाहने वाली साइट मिलाप पर अपील करने का फैसला किया तो हमने सारी उम्मीदें खो दी थीं।  हमने 5400  लोगों से 60  लाख रुपये इकठे किये और  Amrit Pradhan जितना समर्थन और प्यार मिला, Amrit Pradhan लगभग 20 दिनों से वेंटिलेटर सपोर्ट पर जीवन के लिए जूझ रहा है। जिस तरह से लोगों  से उनको सपोर्ट मिला है वह देखने लायक है